किसानों का अपमान कर रही है सरकार-राव आफाक अली
किसानों के सच्चे हितैषी हैं पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत-संतोष चैहान
हरिद्वार। पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष वरिष्ठ कांग्रेस नेता राव आफाक अली ने बताया कि जनपद के आपदा प्रभावित किसानों को उचित मुआवजा दिलाने की मांग को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत 7 दिसम्बर को देहरादून में गांधी पार्क में मौन उपवास करेंगे। जिसमें हरिद्वार से बड़ी संख्या में किसान और कांग्रेस कार्यकर्ता भी शामिल होंगे। प्रैस क्लब में पत्रकारों से वार्ता करते हुए राव आफाक अली ने कहा कि आपदा के चलते जनपद के किसानों को भारी नुकसान हुआ है। लेकिन सरकार आपदा से प्रभावित किसानों को 1100 रूपए बीघा के हिसाब से मुआवजा देकर उनका अपमान कर रही है। जबकि हरीश रावत सरकार में आपदा ग्रस्त किसानों को 10 हजार रूपए प्रति बीघा के हिसाब से मुआवजा राशि दी गयी थी। उन्होंने कहा कि किसानों को उचित मुआवजा दिलाने की मांग को लेकर हरीश रावत के नेतृत्व में कांग्रेस कार्यकर्ताओं और किसानों ने सीएम आवास का घेराव किया तो सीएम पुष्कर सिंह धामी ने हरीश रावत के नेतृत्व में वार्ता के लिए गए प्रतिनिधिमंड को अधिकारियों से जांच कराकर किसानों के नुकसान की भरपाई और इकबाल चीनी मिल पर बकाया का जल्द भुगतान कराने का आश्वासन दिया था। सीएम के आश्वासन के बाद भी अब तक किसानों की समस्याओं का समाधान नहीं होने से चिंतित हरीश रावत ने गांधी प्रतिमा के समक्ष मौन उपवास करने का निर्णय लिया है। राव आफाक अली ने कहा कि सरकार किसानों की पीड़ा को समझे और उनकी समस्याओं का समाधान करे। राज्य महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष संतोष चैहान और राज्य सफाई कर्मचारी आयोग के पूर्व किरणपाल बाल्मिीकि ने कहा कि भाजपा सरकार को जनता की कोई चिंता नहीं है। धर्म के नाम पर लोगों को भटकाया जा रहा है। कांग्रेस सरकार द्वारा उत्तराखंड सरकार और हरिद्वार जनपद का में जो विकास कार्य हुए वे मिसाल हैं। उन्होंने कहा कि हरीश रावत किसानों के सच्चे हितैषी हैं और हमेशा किसानों, मजदूरों, बेरोजगारों और गरीबों के लिए चिंतित रहते हैं। दुर्घटना में घायल होने और अस्वस्थ होने के बावजूद उन्होंने किसानों के हित के लिए मौन उपवास का निर्णय लिया है। हरिद्वार जनपद से भारी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता और किसान भी मौन उपवास में शामिल होंगे। पत्रकारवार्ता के दौरान अमन कुमार, आबाद अल्वी, राजेश चैहान, राजू सहित कई कांग्रेस कार्यकर्ता मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *